www.swargvibha.in






रामकाव्य और तुलसीदास

 

 

 

महाकवि और रामभक्त ,तुलसीदास जी अपने काव्यों में, अपने सम्बन्ध में इतना कम उल्लेख किये हैं, कि उससे कवि के जन्मसंवत और जन्मभूमि पर प्रकाश नहीं पड़ता; लेकिन मूल ’गोसाई” चरित के अनुसार तुलसीदास् जी की जन्म-तिथि श्रवण शुक्ल सप्तमी सं० 1554 है-----

 

पन्द्रह सौ चौवन विसै कालिंदि के तीर,
श्रावन शुक्ला सप्तमी तुलसी धरेउ शरीर ॥

 

पर आधुनिक विद्वान इसे मानने के लिए तैयार नहीं हैं ,क्योंकि उनकी मृत्यु के लिए सं० 1680 प्रसिद्ध है । इस तरह तुलसीदास जी का जीवनकाल 126 साल की हो जाती है ; जो असंभव प्रतीत होता है । तुलसीदास जी के जीवन स्थल को लेकर भी विवाद है, बहुमत राजापुर के पक्ष में है , लेकिन यह प्रमाणित नहीं है ; हालांकि यह भी सच है कि प्राप्त साक्ष्यों के अनुसार अन्य समस्त स्थानों की अपेक्षा राजापुर के पक्ष में संभावना अधिक है ।


’कवितावली’ में कवि ने अपनी जीवन-यात्रा के सम्बन्ध में बताया है कि उनके जन्म लेते ही,उनके माता-पिता उन्हें त्याग दिये थे । अत: तुलसी का बचपन घोर दरिद्रता में बीता; दर-दर की ठोकरें खाकर वे बड़े हुए । सौभाग्य से उन्हें गुरु नरहरिदास से या नरहर्यानंद नामक कोई महात्मा थे, मिल गये । उनसे संस्कृत और शास्त्र की विद्या हासिल की , पश्चात गृहस्थ जीवन में प्रवेश किये । वे पत्नी के प्रति कितने आसक्त थे कि वे राम भक्ति से भी विचलित हो गये ; लेकिन एक दिन पत्नी की फ़टकार को पाकर विषय-सेवन से मुक्त होकर घर से निकल गये और कामदास से रामदास बन गये ।

 

तुलसीमानस की रचना,बाल्मीकि की रामायण और आध्यात्म्य रामायण पर आधारित है । यह काव्य एक ओर तो उत्कृष्ट काव्य है, तो दूसरी ओर भक्तिमूलक धर्मग्रंथ । मानस का रचना काल संवत 1631 बताया जाता है , इसे लिखने में लगभग तीन वर्ष लगे । शीघ्र ही तुलसीदास जी की मानस ,हिन्दी क्षेत्र में प्रसिद्ध हो गई । तुलसी की मानस के आधार पर काशी में रामलीला का आयोजन किया गया । इससे इस महाकाव्य को काफ़ी ख्याति मिली ; मानस को काव्य की कसौटी पर कसा जाय अथवा धर्मग्रंथ की कसौटी पर ,यह शुद्ध कंचन है; यह हिन्दी काव्य-माला का मेरू है ।


परम्परा यह है कि राम और बाल्मीकि ,दोनों समकालीन थे । अत: बाल्मीकि द्वारा राम चरित्र काव्य अधिक महत्व रखता है । बाल्मीकि रामायण सहस्त्रों वर्षों से राम कथा का मूल काव्य समझा जाता था ;अत: बाल्मीकि द्वारा रचित राम-काव्य रामायण,सर्वाधिक मान्य है । हमारे देश, भारत के ग्रंथों में कुछ प्रक्षेप वाद में मिलाया गया है ; यहाँ तक कि रामायण, महाभारत ,पुराण आदि जैसे शास्त्र भी इसमें अछूते नहीं रहे , ऐसा कुछ विद्वानों का मानना है ।
तुलसीदास ने बाल्मीकि रामायण से ही ( जो कि संस्कृत में लिखी गई है ) अपने मानस के लिए जल संचय किया । तुलसी से पहले का हिन्दी राम-साहित्य नहीं के बराबर है , जो भी है, पर तुलसी अन्यान्य प्राकृत कवि और भाषा के हरि-चरित्र बखानने वाले कवियों से परिचित जान पड़ते हैं, तभी तो तुलसी के रामायण में प्राकृतिक चित्रण बहुतता से मिलती है । बाल्मीकि रामायण, जो कि संस्कृत में रची गई है, उनमें राम-काव्य की समृद्ध परम्परा है जिससे तुलसीदास भी प्रभावित थे । भाषा में रामचरित मानस के प्रथम महाकवि का ऐतिहासिक महाकाव्य है । उनके समकालीन कवि, सूरदास ने भी रामचरित मानस के कुछ पद रचे थे ।

 

तुलसी और सूर, दोनों ही उदार वैष्णव भक्त थे और दोनों की ही राम-श्रीकृष्ण के प्रति श्रद्धा-भक्ति थी । मगर इष्टदेव के रूप में तुलसी ने राम को ग्रहण किया, और सूर ने श्रीकृष्ण को । दोनों ने अवतारों के सम्बंध की रचनाएँ कीं । शास्त्रों के अनुसार ,दोनों ही शाखाओं को हरिनाम पसंद था । भावना के अनुसार, दोनों ने राम अथवा श्रीकृष्ण को अपनी विशेष भक्ति,कुछ इस तरह शब्दों में अर्पित किया है-----


’ बंदौ मिनिपद कंजु रामायण जेहि निरमयेउ
सखर सुकोमल मंजु दोष रहित दूषण सहित ॥
’मुनिन्ह प्रथम हरि कीरति गाई । तेहिमग चलत सुगम मोही भाई ।
व्यास आदि कवि पुंगव नाना, जिन्ह सादर हरि सुजन बखाना ॥”

 

 

तुलसी ने इष्टदेव ,राम को माना; इसका अर्थ यह कभी नहीं है कि उन्होंने श्रीकृष्ण का आदर नहीं किया । मध्यकाल के बहुत पूर्व ,पुराणों और अन्य धार्मिक ग्रंथों में वैष्णव और शैव भक्ति का समन्वय पतिपादन मिलता है । शिव और विष्णु में भेद दिखाने वाले पुराण ,उपपुराण में शिव और विष्णु की एकता,हरिहर की मूर्ति की पूजा की चर्चा है । राम भी शिव के भक्त हैं, सेतुबंध के समय राम ने शिव की आराधना की थी और शिव,सदा राम-नाम जपते रहते हैं । विष्णु और लक्ष्मी,राम-सीता, कृष्ण-राधा, सब एक तत्व या भाव के प्रकाशक हैं । यही कारण है कि , अन्य जगहों को छोड़ ,उत्तर भारत में भक्तों के बीच कोई विवाद नहीं था और तुलसी इसी उदार वैष्णव भक्ति वातावरण में पले-बढ़े । इसलिए इन सिद्धान्तों का जिक्र उन्होंने अपनी मानस में भी किया है । ’आध्यात्म रामायण” की परम्परा को उन्होंने मानस की रचना से पल्लवित किया । बाल्मीकि रामायण से राम-चरित्र लिया गया, लेकिन भक्ति का निरूपण आध्यात्म रामायण से अनुप्रमाणित है । यह मानना है, शैव और वैष्णव में एकता बनी रहे, इसके लिए तुलसीदास जी ने कहा, जो राम-भक्त है ,वही शिव-भक्त है और जो शिव भक्त है, वही राम भक्त है । यह ठीक नहीं है, यह तो सैकड़ों साल पहले ही लिखने वाले लिख चुके हैं । तुलसी ने रामचरित मानस की रचना का शुभारम्भ, शिव और शिवा का स्मरण कर ही किया है ।


तुलसी विनम्र ग्यानी थे, वे मानस में अपनी विनम्रता और अल्पग्यता की चर्चा करते हैं , वे अपनी तुच्छता का वर्णन इस प्रकार करते हैं, मालूम वे कुछ जानते ही नहीं,कि कलाविधा का उन्हें ग्यान नहीं । वे कहते हैं, ईश्वर ने थोड़ा ग्यान जो दिया है, उसी से मैंने रामकथा व्यक्त करने की कोशिश की है । उन्हें निर्गुण से विरोध नहीं था, लेकिन उनका कहना था, निर्गुण हृदय में, भावरूप में रहे पर नयनों में सगुण रूप की छाया रहे ।


तुलसी श्रुतिसम्मत हरिभक्ति पथ के पथिक ,वर्णाश्रम के पोषक तथा स्मृति पुराणों में विकसित धर्म के बहुत बड़े प्रचारक कवि थे । यही कारण है कि तुलसी की रामायण हिन्दुओं के बीच इतनी ख्याति प्राप्त की और पूजित हुआ । उनके समय में काव्य-क्षेत्र में जितने भी छंद-विधान प्रचलित थे ; लगभग सब में उन्होंने अपने प्रिय विषयों को प्रस्तुत कर सामर्थ्य हासिल किय । तुलसी से पहले या समकालीन जितने भी महारथी ( कवि ) हुए, किसी में ऐसी विविधता नहीं मिलती । रामचरित्र मानस में अपनी भक्ति का रूप चढ़ाकर ,उन्होंने इतना सुंदर और प्रभावशाली बना दिया कि यह ग्रंथ हिन्दु समुदाय का कंठहार बन गया ।


तुलसी ने ’मानस’ में व्यक्ति-धर्म और लोक-धर्म ,दोनों को समान महत्व दिया । उन्होंने कहा, कर्तव्य सबसे बड़ा धर्म है । आदमी को कोई भी ऐसा काम नहीं करना चाहिये, जिससे जगत- जीव को किसी प्रकार का कष्ट पहुँचे । यहाँ तक कि प्रकृति –रक्षा को तुलसी ने धर्म का अंग बताया । तुलसी की राम के प्रति भक्ति और भावुकता, मानस के लगभग सभी स्थलों पर व्यक्त हुआ है । जहाँ कथा में मानवीय प्रसंग आया है, जैसे अयोध्या का वन-गमन, चित्रकूट में माताओं और प्रिय अनुज भरत से राम का मिलना, सीता हरण, लक्ष्मण- मूर्च्छा, अवध में वापसी ; सभी परिस्थितियों में कवि ने जैसी सहृदयता, मानवीयता और आदरता का परिचय दिया है, उसे भाव- भेद और रस-भेद वाला कवि कह सकते हैं ।


’मानस’ जो रामचरित्र का काव्य है, पर तुलसी का मानस ’विनय पत्रिका’ में तरंगित है , यह पद-संग्रह तुलसी के मन का आईना है, इसमें प्रत्येक पद भक्ति –पथ में पड़ने वाले पद की रेखा से अंकित है । तुलसी के ’गीतावली’ में राम की कथा, गीत-शैली में गाई गई है ,जो कि महाकवि सूर से प्रभावित जान पड़ती है । इस ग्रंथ में तुलसी ,स्वजीवन सम्बंधी कुछ संकेत –सूत्र दिये हैं । ’हनुमान बाहुक’ में हनुमान की वंदना है और उन्होंने अपनी भीषण बाहु-पीड़ा का चीत्कार, हनुमान को सुनाई है ।


तुलसी भारतीय साहित्य में अपने ढ़ंग के पहले और आखिरी कवि हैं । तुलसी के साथ हिन्दू समाज में जिस राम काव्य –परम्परा का आरम्भ हुआ, वह और कोई नहीं कर सका; आगे भी आशा निराधार होगी । इस हिमालय के नीचे पहाड़ियाँ---टीले बहुत हुए, लेकिन हिमालय एक था और एक ही रहेगा ।
------------------------------

_________________

 

 

डा० श्रीमती तारा सिंह

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...