बुजर्गों के तजुर्बे ताबूत बन कर रह गये हैं

 

 

नागेन्द्र शर्मा

 

 

कुछ लोगों का मानना है कि बुजुर्गियत की समस्याएं पूर्व जन्म की निर्धारित समस्याएं हैं और यह उनका प्रारब्ध है इसलिए इन्हे भोगना होगा। यह समझ कर अपने अतीत को भूलते हुए भविष्य की चिंता में न डूब कर अपने वर्तमान को स्वीकार कर लेना चाहिए। दुख को सुख मान कर अपने जीवन मे प्रसन्न रहना सीख लेना चाहिए। यदि ऐसा नहीं करते हैं तो उन्हे अपना जीवन अभिशाप लगने लगेगा। यही नहीं इस क्षेणी के लोगों ने इस लेखक को यह मशवरा दे डाला कि आप अपने अड़ोस पड़ोस की परिस्थिति को सार्वजनिक न करें। अपनी लेखनी का उपयोग लोगों को हर हाल मे प्रसन्न रहने के लिए प्रेरित करने के लिए करें। उनसे मेरा कहना है कि समाज के एक वर्ग विशेष की समस्याओं को सार्वजनिक न कर उनका साझा न करना और साथ न देना क्या अन्याय नहीं होगा। दो चार बुद्धिजीवी युवा पीढ़ी का मानना है कि आज के परिवर्तनशील युग मे बुजर्ग यदि हर पल हर क्षण प्रसन्न रहना सीख ले तो उन्हे किसी प्रकार की समस्या से घीरे रहना नहीं पड़ेगा।
कहने वालों ने अपनी समझ ब्यक्त की लेकिन वह आधी आधूरी है। आज के भौतिक युग मे कोई यह दावा करे कि वह हर परिस्थिति मे प्रसन्न रहता है तो इस दावे को पूर्ण सत्य नहीं माना जा सकता है। क्योंकि प्रसन्नता सहज ही प्राप्य नहीं है जबकि अप्रसन्नता सहज प्राप्य है। प्रसन्नता या अप्रसन्नता शरीर और मस्तिष्क की एक क्रमिक अवस्था का परिणाम है। यह एक ऐसी समस्या है जो बाह्य स्रोत के द्वारा उत्पन्न होती है। बाह्य प्रभाव केवल इसकी समय सीमा बढ़ा सकते है। चूंकि बाहरी स्रोतों पर हमारा नियंत्रण नही है। इस नियंत्रणताहीन स्थिति मे कोई भी किसी एक स्थिति पर कैसे टिका रह सकता है वह चाहे प्रसन्नता हो या अप्रसन्नता। इसलिए ऐसी स्थिति मे यह सलाह देना कि हर प्रकार की समस्या के बीच सहज, सरल और प्रसन्न रहने से किसी समस्या को समस्या न समझ कर अपना प्रारब्ध मानते हुए कोई भी अपना जीवन सुख पूर्वक ब्यतीत करता चला जायेगा। जीवन काटना और जीवन जीना अलग अलग स्थितियां है जिनको नकारना जीवन दर्शन को न समझने के बराबर है। इस संदर्भ मे एक अन्य पहलू को समझने की आवश्यकता है। कोई अगर प्रसन्न है तो प्रसन्न रहने का कोई एक कारण नहीं बता सकता जबकि अप्रसन्नता की एक लंबी फेहरिस्त सामने रख सकता है। एक भूखे की प्रसन्नता भोजन मे है। भूख को सहज समझ कर प्रसन्न रहने की सलाह मे नहीं।

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...