नयेपन की डिमांड और अलग तरह की राजनीती--अमित शर्मा (CA)

Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21255
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

नयेपन की डिमांड और अलग तरह की राजनीती--अमित शर्मा (CA)

Post by admin » Sat May 13, 2017 7:43 pm

अमित शर्मा (CA)


Image


नयेपन की डिमांड और अलग तरह की राजनीती

हर कोई सबसे अलग और नया दिखना चाहता है क्योंकि जो दिखता है ज़रूरी नहीं वो बिकता भी है। बिकने के लिए बिकनी की तरह एक्सपोज़ करना ज़रूरी होता है, मतलब माल ग्राहक को वाकई "माल" लगेगा तभी उसे वो सड्डेनाल रखेगा। मार्किट में नया और अलग माल ही सबकी नज़रो में अटकता और खटकता है और अगर ग्राहक को माल पसंद आ जाए तो वो उसको बड़े हक़ से जल्दी ले सटकता है। यहाँ तक की वाट्सएप मैसेज भी लोग तभी आगे फॉरवर्ड करते है जब तक उन्हें "मार्किट में नया है" कहकर बरगलाया ना जाए।

बाजार में वही व्यापारी सफल हो पाता है जो ग्राहक की नब्ज़ और जेब पकड़ना जानता है और केवल पकड़ना महत्वपूर्ण नहीं होता है पकड़ने के बाद ग्राहक को लगना भी चाहिए की सही पकडे है।

इंसान हमेशा से नयापन और कुछ अलग ढूंढता आया है क्योंकि बोरियत उस बिना बुलाए मेहमान की तरह होती है जो घर आ जाने पर और कुछ ना सही (10 बार मना करते-करते) भी चाय और खून पीकर तो जाती ही है। नयापन और कुछ अलग दिखने की चाहत विशिष्ट हो जाने की उस भूख से उपजता है जो केवल अहम की संतुष्टीरूपी डकार से तृप्त होती है।

नयेपन की भूख ,नए बाज़ारो और व्यापारियों को जन्म और अवसर देती है। हर बाजार माँग और पूर्ति के सनातन नियम से संचालित होता है। राजनैतिक बाजार भी इससे अछूता नहीं है। राजनैतिक बाजार में चाहे कितनी भी वादाखिलाफी क्यों ना हो फिर भी वो इस नियम का ईमानदारी से पालन और पोषण करते हुए अपना मुख्य कार्य शोषण ज़ारी रखता है। मतदाताओ के टेस्ट का ध्यान रखते हुए, उन्हें बोरियत और भ्रष्टाचार से बचाने के लिए कुछ वर्ष पूर्व जनआंदोलन की कोख से एक पार्टी ने अवतार लिया था और इस अवतार से पहले आकाशवाणी और भविष्यवाणी (जिसमे बिजलियों के बदले टीवी कैमरे के फ्लेश चमके थे।) केे ज़रिये जनता को बताया गया था की पार्टी का अवतार जनता को जीते जी मोक्ष की अनुभूती करवाने के अति आवश्यक जीवनदायीं तत्वों लोकपाल और स्वराज की स्थापना और स्थापना के बाद तोहफा कबूल करो जहाँपना कहने के लिए हो रहा है।

पार्टी की स्थापना अलग तरह की राजनीती करने के वादे से हुई थी इसलिए जनता से किये गए अपने वादे को निभाते हुए बिलकुल अलग और नए तरीके से जनता को वही पुरानी दवा दी जा रही है ताकि जनता अपने नयेपन की खुजली मिटाते हुए अपनी पुरानी आदते बनाए रख सके। दरअसल जनता को भ्रष्टाचार और अकर्मण्यता से समस्या नहीं है वो तो उसे अपना भाग्य मानकर स्वीकार कर चुकी है लेकिन जनता आहत तब होती है जब नेतागण उन्ही पुराने रास्तो पर अपनी भ्रष्टाचार और अकर्मण्यता की गाडी दौड़ा कर लोकतंत्र की बाधादौड़ पूरी करते है। आम आदमी जलपान छोड़कर पहले मतदान करता है इसलिए उसे पूरा हक़ है अपने वोट की एंटरटेनमेंट वैल्यू वसूलने का।

आम आदमी के नाम पर बनी पार्टी ने मतदाता के एंटरटेनमेंट का पूरा ख्याल रखा है । आम आदमी पार्टी ("आप") ने लोकतंत्र की नीरसता को ना केवल दूर करने का काम किया है बल्कि दूरदर्शी राजनैतिक मूल्यों की स्थापना करने में भी महती भूमिका निभाई है। आप पर कोई भ्रष्टाचार का आरोप लगाए उससे पहले ही आप सबको भ्रष्टाचारी घोषित कर स्वयं को ईमानदारी का एकमात्र मसीहा घोषित कर दो। इससे ना तो आप की ईमानदारी साबित होती है और ना ही दूसरे की बेईमानी लेकिन टाइमपास अच्छा हो जाता है और मुँह बाए खड़ी सैंकड़ो समस्याओ के बावजूद सबका मूड फ्रेश रहता है। अगर कोई गलती से या दुर्भावना से आप पर कोई भ्रष्टाचार का आरोप लगा भी दे तो घबराए नहीं बल्कि अपनी पार्टी के नेता से बयान देने को कहे की,"आप को खरीदने वाला अभी कोई पैदा ही नहीं हुआ है।" ऐसा करके आप ना केवल आरोपो का खंडन करेंगे बल्कि अप्रत्यक्ष रूप से खरीददारो को ललकार कर उनका मन भी टटोल लेंगे।

अलग तरह की राजनीती में कोई आप पर काम ना करने का आरोप लगा ही नहीं सकता है अगर आप रोज़ सुबह उठते ही आरोप लगा दे की आपको काम नहीं करने दिया जा रहा है। इससे आप को काम करने की चिंता और तनाव से भी मुक्ति मिलेगी और आप इतना पर्याप्त समय निकाल पाएंगे की दूसरे राज्यो में चुनाव प्रचार करते हुए भी हर मूवी फर्स्ट डे-फर्स्ट शो देखकर उसका रिव्यु दे सके। विरोधी चाहे कुछ भी कहे लेकिन इस अलग तरह की राजनीती ने सत्ता को जवाबदेही से मुक्त कर लोगो की आशाओ को टूटने से बचाया है जो लोकतंत्र की दीर्घजीविता के लिए शुभ संकेत है।

इस तरह की राजनीती में इंसान सैदव विजयी रहता है क्योंकि या तो वो जीतता है या फिर इवीएम में गड़बड़ द्वारा लोकतंत्र की हत्या होती है। ऐसा होने से इंसान हार जाने की गिल्ट से पार पा लेता है और हार की ज़िम्मेदारी लेने , इस्तीफा देने और आत्मचिंतन करने जैसी झंझटो से भी मुक्त हो जाता है।

इस नयी और अलग किस्म की राजनीती ने बहुत कम समय में सफलता के नए शिखर छुए है। शिखर पर पहुँचना आसान होता है लेकिन वहाँ बने रहना मुश्किल है। इसलिए आवश्यक है कि जनता और नेता हमेशा अपने नयेपन की डिमांड और सप्लाई में संतुलन बनाए रखे ताकि लोकतंत्र को नीरस होने से बचाया सके।
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply