मौत का महीना और सरकारी मलहम--अमित शर्मा (CA)

Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 20777
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

मौत का महीना और सरकारी मलहम--अमित शर्मा (CA)

Post by admin » Wed Aug 16, 2017 12:50 pm

अमित शर्मा (CA)Image

मौत का महीना और सरकारी मलहम

पत्रकारो और लेखको के कलम तोड़ने के बाद स्वास्थ्य मंत्री जी ने चुप्पी तोड़ते हुए कहाँ की अगस्त में तो बच्चे मरते ही है , हमें मंत्री जी का शुक्रगुजार होना चाहिए कि उन्होंने अपने अमूल्य समय से कुछ समय जनता के लिए निकाल कर यह बहुमूल्य ज्ञान उगला। मंत्री जी ने अपनी शहद भरी वाणी से इतनी सुगमता से ज्ञान उपलब्ध करवाया कि कोई भी हँसते-हँसते शहीद होना चाहेगा। स्वास्थ्य मंत्री ने मुख से ज्ञान की गंगा बहाई और हाथ से अपनी पीठ हौले-हौले से थपथपाते हुए यह भी कहाँ की इस साल पिछले साल की तुलना में कम मौते हुई है। मंत्री जी ने साबित कर दिया की लोकतंत्र में ज़्यादा संख्याबल सरकार बचाता है और कम संख्याबल लाज। मासूम भले ही काल के गाल में समा गए हो लेकिन मंत्री जी अपनी सरकार की उपलब्धि पर फूले नहीं समा रहे है।

करुणानिधान मंत्री जी अगर बच्चों की अकाल मृत्यु से व्यथित होकर ज्ञान की "उल्टी" नहीं करते तो यह "सीधी" बात जनता के दिमाग में नो-एंट्री का बोर्ड देखकर वापस लौट जाती है। स्वास्थ्य मंत्री पर जनता के काम का बोझ बहुत रहता है। सरकार के स्वास्थ्य के साथ साथ जनता के स्वास्थ्य का ध्यान रखने का अतिरिक्त प्रभार भी मंत्री जी के मज़बूत कंधो पर है, इसलिए उन्होंने बच्चों के मरने का महीना तो बता दिया लेकिन यह बताना भूल गए कि नेताओ की मति मारे जाने का कोई महीना तय नहीं है, वो लचीली होती है इसलिए किसी भी माह में मति, वीरगति को प्राप्त हो सकती है। हमें स्वास्थ्य मंत्री जी का आभारी होना चाहिए कि उन्होंने बच्चों की अकाल मृत्यु से शोकाकुल जनता को गीता सार समझाया कि जिसका जन्म हुआ है उसकी मृत्यु निश्चित है। जनता को इस बात की ख़ुशी और गर्व होना चाहिए की भले ही अभी तक गीता को राष्ट्रीय पुस्तक घोषित ना किया गया हो लेकिन अभी से ही हमारे चुने हुए जनप्रतिनिधि गीता का अनुसरण कर रहे है।

सूबे की सरकार और स्वास्थ्य मंत्री जी जनहितैषी है और जनहितैषी होने का अधिकार उन्होंने पिछले चुनावो में प्रचंड बहुमत से हासिल किया है, अब अगले 5 सालो तक जनता का हित करने से उन्हें कोई नहीं रोक सकता, जनता भी नहीं! चुनावो के समय पार्टी की प्रचंड आंधी चली थी जिसमे सारे मुद्दे और विपक्ष उड़ गया था। लोकतंत्र में पक्ष और विपक्ष को कदम मिलाकर चलना चाहिए इसीलिए शपथ लेने के बाद मुख्यमंत्री और बाकि मंत्री भी हवा में उड़ने लगे ताकि ज़मीनी स्थिति का हवाई सर्वेक्षण आसानी से किया जाए सके।

सरकार के उड़ने के शौक के चलते कुछ लोग अफवाहे भी उड़ा रहे है कि बच्चों की मौत ऑक्सिजन की कमी के चलते हुई जिसका सामूहिक खंडन करने की आवश्यकता है क्योंकि मुख्यमंत्री और बाकि मंत्रिमंडल ने पिछले पर्यावरण दिवस पर सैंकड़ो फ़ोटो खिंचवाते हुए दर्ज़नो पेड़ लगवाए थे ताकि पेड़ क्षण प्रतिक्षण ऑक्सिजन छोड़ सके और सरकार निश्चिंत होकर लंबी-लंबी छोड़ सके। भ्रष्टाचार के आरोप लगाकर सरकार का मनोबल तोड़ने का कुत्सित प्रयास किया जा रहा है। सरकार अभी नई नई है उसे लाल फीता काटने से फुर्सत मिले तो वो लालफीताशाही से भी लड़ लेगी।
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply