जमने लगे जब जिगर में रंज--रवीन्द्र् गोयल

Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21569
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

जमने लगे जब जिगर में रंज--रवीन्द्र् गोयल

Post by admin » Mon Mar 07, 2016 5:54 am

जमने लगे जब जिगर में रंज, तुम बराह-ए-धरम लिखना,
अल्फाज़ के सायों में तुम, कलम से सदा-ए-रूह लिखना ।
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply