हाइकु शशांक मिश्र ‘‘भारती’’

Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21569
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

हाइकु शशांक मिश्र ‘‘भारती’’

Post by admin » Fri Dec 02, 2011 9:40 am

1ः-
हम सभी तो
आतंकियों से बचे
प्रकृति से नहीं।
2ः-
प्रफुल्लता
धूल में मिल गई
लापरवाही।
3ः-
धूल चाटती
फाइलों का आदेश
भूकम्पोंपरान्त।
4ः-
व्यथित सब
जड़ और चेतन
द्वारिका धीश।
5ः-
हर्ष-विषाद
प्रकोप प्रकृति का
अथवा योग।
6ः-
सुबह-हर्ष
विषाद कम्पन से
शोक से डूबा।
7ः-
ताण्डव क्रूर
महज संयोग से
दोषी मानव।
8ः-
पुनः चेताया
श्रेष्ठता दी हमने
श्रेष्ठ कौन?
9ः-
विखरा सब
अति आतुरता
अहं कारण।
10ः-
उड़ेंगे गिद्ध
सुविधाओं से बद्ध
आदत जन्य।
11ः-
तुम बदले
हम सब बदले
लेकिन क्यों?

12ः-
पदोन्नति को
खोज किसकी रही
सुविधा शुल्क।

13ः-
नेता सो फेल
राजनीति का खेल
स्वार्थी कुर्सी पे।

14ः-
हम बदले
वो भी बदल गए
भ्रष्टता वहीं।

15ः-
व्याप्त कुहासा
भास्कर अदृश्य
राज औ नीति।

16ः-
जाग्रत हुए
स्वार्थ साधने को
दांव-पेंच से।

17ः-
उतारा कर्ज
स्वलाभ करके
तंत्र ने जन का।

18ः-
बहादुर थे
शिकार शेर का
चूहे से दुबके।

19ः-
उन्नति की
सरकाते ही रहे
जो बीता वर्ष।

20ः-
पीड़ित जन
अपनों से अधिक
न कि परायों से।
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply