बेटी की अहमियत----शालू मिश्रा

Description of your first forum.
Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21569
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

बेटी की अहमियत----शालू मिश्रा

Post by admin » Thu Sep 20, 2018 7:00 pm

Shalu Mishra

कविता
(बेटी की अहमियत)

धन की लालसा
मन में
जगाते हो,
बेटी को पराया
धन
बोल गर्भ में
गिराते हो।
कहते है ,के बेटा
वंश बढायेगा,
यदि बहू न आई
आंगन
तो किलकारी
कौन गूंजायेगा।
हे मानुष यह
जघन्य अपराध ही
मनुष्य की हार है,
बेटी बिन न
चल सकता
घर- परिवार है।

Image
शालू मिश्रा, नोहर (हनुमानगढ)
--
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply