Page 1 of 1

मजदूर-- आदिल रशीद तिलहरि

Posted: Tue May 01, 2012 7:51 am
by admin
मज़दूर दिवस
खोखले नारों से दुनिया को बचाया जाए
आज के दिन ही हलफ इसका उठाया जाए
जब के मज़दूर को हक़ उसका दिलाया जाए
योम ए मज़दूर उसी रोज़ मनाया जाए

खुदकुशी के लिऐ कोई तो सबब होता है
कोई मर जाता है एहसास ये तब होता है
पेट और भू्ख का रिश्ता भी अजब होता है
जब किसी भू्खे को भर पेट खिलाया जाए
योम ऐ मज़दूर उसी रोज़ मनाया जाए

असल ले लेते हैं और ब्याज भी ले लेते हैं
कल भी ले लेते थे और आज भी ले लेते हैं
दो निवालों के लिए लाज भी ले लेते हैं
जब के हैवान को इंसान बनाया जाए
योम ए मज़दूर उसी रोज़ मनाया जाए

बे गुनाहों की सज़ाएं न खरीदी जाएं
चन्द सिक्कों में दुआएँ न खरीदी जाएं
दूध के बदले में माँएं न खरीदी जाएं
मोल ममता का यहाँ जब न लगाया जाऐं
योम ए मज़दूर उसी रोज़ मनाया जाऐ

अदलो आदिल कोई मज़दूरों की खातिर आऐ
इन के हक़ के लिऐ कोई तो मुनाज़िर आऐ
पल दो पल के लिऐ फिर से कोई साहिर आऐ
याद जब फर्ज़ अदीबों को दिलाया जाऐ
योम ए मज़दूर उसी रोज़ मनाया जाऐ