एड्स रोग–सामाजिक ज्वलंत प्रश्न व स्थिति का आकलन--Praveen Kumar

Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21569
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

एड्स रोग–सामाजिक ज्वलंत प्रश्न व स्थिति का आकलन--Praveen Kumar

Post by admin » Sat Dec 01, 2018 6:19 pm

Image
Praveen Kumar



एड्स रोग –सामाजिक ज्वलंत प्रश्न व स्थिति का आकलन

एक दिसंबर को समस्त विश्व मे विश्व एड्स दिवस मनाया जाता है । स्थानीय स्तर पर उत्तर प्रदेश मे सीतापुर जनपद की स्थिति विश्व एड्स दिवस पर क्या है ?यह ज्वलंत प्रश्न हर शिक्षित युवा के मन में उभरता है ।

सीतापुर जनपद की जनसंख्या 2011 इंडिया सेंसेक्स के अनुसार 4483992 है । उक्त जन संख्या मे 2375264 पुरुष व 2108728 स्त्रियाँ हैं जनपद का जन संख्या घनत्व 781 व्यक्ति /किमीस्कायरहै ।

उपरोक्त आंकड़ों को ध्यान में रखते हुए हमें एड्स संक्रामक रोग कि भयावह स्थिति को समझना होगा ।

वर्तमान समय में सर्वाधिक मामले नशे से संबन्धित एड्स रोगियों के हैं । अन्य मामले असुरक्षित यौन सम्बन्धों के कारण हैं , कुछ मामले संक्रमित माताओं व शिशुओं से संबन्धित हैं। एड्स रोगियों मे अधिकतर कैदी , वाहनचालक , नशे के आदी डेली वेजेज़ वाले व्यक्ति हैं । कुछ ग्रामीण क्षेत्र के क्षय रोगी एड्स से ग्रसित होने के उपरांत पहचाने जाते हैं । नागरिक रोजगार कि तलाश में राजधानियों या विभिन्न औध्योगिक नगरों में प्रवास करते हैं , एड्स से संक्रमित होने के पश्चात उचित उपचार हेतु जनपद के आई सी टी सी केन्द्रों पर उन्हे जांच कर चिन्हित किया जाता है व ए आर टी केन्द्रों से जोड़ा जाता है ।

एड्स का जीवन पर प्रभाव –

एड्स, एड्स रोगी की उत्पादक क्षमता अर्थात धन कमाने की क्षमता पर प्रभाव डालता है , साथ ही साथ दीर्घ जीवन की आशा भी क्षीण करता है । अत : पीड़ित परिवार , आर्थिक व सामाजिक रूप से संकट में आ जाता है । यदि पति -पत्नी दोनों एड्स ग्रसित हैं , तो बच्चो के सामने आजीविका,शिक्षा व स्वास्थ्य का महत्व पूर्ण प्रश्न खड़ा हो सकता है। परिवार समस्याओं के कुचक्र मे घिर सकता है ।

व्यक्ति की निजी गोपनीयता बनाए रखने में पूरा सरकारी तंत्र जुटा होता है , जो व्यक्ति को सामाजिक कलंक से बचा कर सम्मान जनक जीवन देने का प्रयास है ।







एड्स की रोकथाम हेतु उपाय - एड्स की रोकथाम हेतु निरोध का आबंटन व प्रचार देखा जा सकता है ,

वही सुई से नशे की आदत वाले व्यक्तियों को स्वयं सेवी संस्थाए स्वास्थ्य- शिक्षा के साथ -साथ विसंक्रमित सुइयों का निशुल्क वितरण करती हैं, व नशा मुक्ति केन्द्रों में उनका उपचार भी कराया जाता है । क्षय रोगियों व अन्य रोग से ग्रस्त एड्स रोगियों का निशुल्क उपचार कराया जाता है ।

वर्ष मे दोबार ए आर टी केन्द्रों मे एड्स की गंभीरता की जांच हेतु सी डी 4 काउंट व रक्त की सामन्य जांच , वक्ष का एक्स रे , उदर का अल्ट्रा साउंड कराकर रोगी का विश्लेषण किया जाता है । जिससे रोगी के जीवन की प्रत्याशा आँकी जा सके ।

जांच केंद्र --

एड्स एक असाध्य रोग है । समय पर एड्स की जांच आई सी टी सी केंद्र , ए आर टी केंद्र , या रक्त दान के पश्चात ब्लड बैंक मे , या यौन रोगों की एड्स हेतु जांच सुरक्षा केन्द्रो में की जा सकती है ।

एड्स का रोकथाम ही उपाय है । एड्स का कोई टीका नहीं है । उपलब्ध औषधियाँ से केवल जीवन का स्तर व रोगों की गंभीरता कम की जा सकती है ।

अत:एड्स की गंभीरता को ध्यान मे रखते हुए अपनी स्थिति का उचित आकलन समय रहते करें , जिससे एड्स प्रसार को रोका जा सके व सुरक्षात्मक उपाय अपनाएं जा सकें ।

01-12-2018 लेख –
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply