- मान लिया !! ---विश्वनाथ शिरढोणकर

Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21563
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

- मान लिया !! ---विश्वनाथ शिरढोणकर

Post by admin » Tue Sep 18, 2018 3:39 pm

Vishwanath Shirdhonkar shared a post to your timeline.
8 hrs ·
Vishwanath Shirdhonkar
8 hrs
Image
- मान लिया !!
--------------------

किसी की चाहत को ही गुनाह मान लिया
किसी की नफरत को ही एहसान मान लिया !!

चाहत हो एहसान हो नफरत हो गुनाह हो
उसकी मोहब्बत को ही खुदाई मान लिया !!

न इसके मन मे था न उसके घर मे था
दो कदम साथ को ही हमसफर मान लिया !!

यादो की तस्वीरे और तस्विरो मे खोजती यादे
खंडहर दिवारों मे ही बसेरा मान लिया !!

मौत भी झरोके से छन छन कर आ रही है
डरे सहमे पलों को ही जिंदगी मान लिया !!

इस उम्र का उस उम्र को ता उम्र सलाम
दोज़ख की जिंदगी को ही जन्नत मान लिया !!
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply