अब गिला शिकवा ---गुलजार (द्वारा रूपा शर्मा )

Post Reply

Post Reply