प्रभात पूरब से फूटा , अंधेरे का क्षय हो रहा है-- अनूप सिहं

Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21393
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

प्रभात पूरब से फूटा , अंधेरे का क्षय हो रहा है-- अनूप सिहं

Post by admin » Tue Feb 06, 2018 5:49 am

प्रभात पूरब से फूटा , अंधेरे का क्षय हो रहा है
तलवार की प्यास भड़की , युद्घ का समय हो रहा है
आगमन यह नाश का नही , निर्माणो के युग का है
नमन करो कि एक , नये सूर्य का उदय हो रहा है |

Prabhat Purab se fhoota , andhere ka chaye ho Raha hai
Talwar ki pyaas bhadkii , yudhh ka ab samay ho Raha hai
Aagman yah naash ka nahi , nirmaano ke yug ka hai
Naman karo ki ek , naye Surya ka uday ho Raha hai

अनूप सिहं
बीए तृतीय वर्ष दिल्ली
विश्व विद्यालय
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply