”हफड़ा- दफड़ी“----सुषमा देवी

Description of your first forum.
Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 20741
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

”हफड़ा- दफड़ी“----सुषमा देवी

Post by admin » Thu May 17, 2018 3:17 pm

पहाड़ी कबता

”हफड़ा- दफड़ी“

चोंई बख्खे पेईयो हफड़ा- दफड़ी ,जिंदड़ी बणदी कुदी नी सखणी

ऊपर बैठा मंदारी नचावे, अपणे हथ्थ जिन्नी रस्सी पकड़ी

माह्णु करदा मेरी- मेरी, अणमुक दस्सदा हेक्ड़ी अपणी

मैं मैं पिछे इतणा गब्बाचा ,भुली गेया सैह् अपणा आपा

कितणा भी कमाई ले पैसा, जर तांई रेहवे उतणा प्यासा

कड़ी पलां रा पता भी हैनी, चोंई बख्खे रखदा नज़रा पैनी

तिदे कम कुजो नी लुबदे, माह्णु बैठेयो मने च ठानी

तू- तू ,में- में फिरे करदा,लडने मरोणे ते जरा नी ड़रदा

भाऊ पिछे भाऊ लड़ोदें इक दूए रे लहु बगांदे

हफड़ा- दफड़ी च पेया वकलोई ,स्याणेया री कदर गेई खोई

डंगर फिरदे गोरां षडकां ,अपणेयां रा सुख अपणेयां जो रड़कै

रिष्ते- नाते रूलदे मुक्कदे, लगे ध्याड़े सुख दे सुक्णे

इक दुए रे अग्गे बदणा, दुए रा कम कदे नी गमणा

माह्णुया च उण ठौर नी रेई हफड़ा- दफड़ी च जिंदड़ी खोई



Ûसुषमा देवी

गांँव व ड़ाकघर भरमाड़

जिला कांगड़ा (हिÛप्रÛ)
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply