“पह्यड़ी कबता”{धुप्प}---सुषमा देवी

Description of your first forum.
Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21114
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

“पह्यड़ी कबता”{धुप्प}---सुषमा देवी

Post by admin » Fri May 25, 2018 4:56 pm

“पह्यड़ी कबता”

{धुप्प}

मत़ी खरी लगदी सैह् सयाले आली धुप्प

गर्मीयाँ दीयां धुप्पा रा, मता लगदा दःुख

लम्मे- लम्मे, ध्याड़े,निक्कियाँ- निक्कियाँ राती

जअली आणी निंद्र ,कच्ची रेही जांदी

घरे रे बाअर जांदेे, नी माहणु

गोरां बतां पेई, आंदी सुन्न

स्याणे गलांदे थे ,तरिया यां ओ

पियांगे पाणी तां,ं हुन्दा मता पुन्न

डं्रगर, पखेरू ,पाणीए बाज़ो तड़फण

अम्बरे ते बरखां रे, छिट्टे नी बरसण

किछ खाणेओं ,दिलड़ु नी गलांदा

पाणीए पी -पी टिड्ड , फुली आंदा

किछ कमाणे तों, रूह कतरांदी

पूरी ध्याड़ी अलखे परी जांदी

कुलरां ,पखेयाँ री हवा, तत्ती होई जांदी

बिजली चली आ तां, राती निंद्र नी ओंदी

मच्छरां मक्खियाँ ,जिंद खाई लेंदी

फकोई आंदे ,बण हरे -परे

खरेयां पलेयां रे सुक्की यांदे गले

मती खरी लगदी सैह् सयालेयाली धप्ुप

गर्मीया दीयां धुप्पा रा मता लगदा दुःख



Ûसुषमा देवी

गाॅव व डाकघर भरमाड़

तहसील ज्वाली जिला

काँगडा हिÛ प्रÛ
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply