पर मैं तुमको भूल न पाया---गौरव शुक्ल मन्योरा

Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21268
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

पर मैं तुमको भूल न पाया---गौरव शुक्ल मन्योरा

Post by admin » Fri Jul 13, 2018 2:39 pm

Gaurav Shukla Manyora
Image
पर मैं तुमको भूल न पाया।
(1)
तुमको गए बहुत दिन बीते ,
जहर गमों का पीते-पीते -
हार गए हम अब, तुम जीते;

कितने मौसम बदल गए पर मुझ में कुछ बदलाव न आया।
सच मैं तुमको भूल न पाया।
(2)
अबकी बार स्वाति जब बरसा,
प्यासे चातक का मन हरषा,
पर मैं हूँ तरसा का तरसा ;

निठुरों की श्रेणी में तुमने सबसे ऊपर नाम लिखाया।
पर मैं तुमको भूल न पाया।
(3)
तुमने भले मुझे छोड़ा है ,
प्यार भरा यह दिल तोड़ा है ,
मुझको दिया न दुख थोड़ा है ;

मेरी हत्या का यद्यपि तुमने सारा दायित्व उठाया।
पर मैं तुमको भूल न पाया।
---------
गौरव शुक्ल
मन्योरा
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply