“तुक्के”---सुषमा देवी

Description of your first forum.
Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21569
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

“तुक्के”---सुषमा देवी

Post by admin » Fri Jul 13, 2018 2:43 pm

पहाड़ी कबता

“तुक्के”

मती प्यारी लगदी मिंजो, छम- छम वरदी बरखा

छल- छल बगदा पाणी, अप्पु लुबी लेंदा रस्ता

निक्के- न्याणे इक्टठे होई, छप- छप खेलां पांदे

कागज़ां रीयां बणाई के नावें, पाणीएं विच चलांदे

अखे- बखे तरती दिखा, हरी -भरी होई यांदी

कूकू करदी कुके कोयल, मिठड़ा बड़ा सैह गांदी

दिने घरोते लौ जगाणी, टिडु मकोडु मते ओन्दे

लाटुए टक्के किट्ठे होई ,नौआं वखैड़ा पौंदे

लौ जाहलु देणी वुझाई तां, जीजुयां कंडुयां तो दिलडु डरदा

डोरू पैरां थल्ले आवे तां ,धक- धक दिलडु करदा

मक्खियां -मच्छर भिणं -भिंण करदे ,हथ्थां -पैरां खांदे

जाहलु चलीया लैट तां नौआं प्वायड़ा पौंदा

गर्मी इतणी सतांदी पसीनां सिरे ते पैंरां जो औदां

निंद्र ओंदी राती कन्ने, जलीयाणां दिलडु पैया

ध्याडिया झपकियां लैंदा।



Ûसुषमा देवी

गाॅव व डाकघर भरमाड़

तहसील ज्वाली जिला कागडा हिÛ प्रÛ
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply