है ऐ शम्मा,ज्यों एक-एक रात तुझ पर गुजारी--डॉ. श्रीमती तारा सिंह

Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21380
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

है ऐ शम्मा,ज्यों एक-एक रात तुझ पर गुजारी--डॉ. श्रीमती तारा सिंह

Post by admin » Sat Aug 11, 2018 10:44 am

Image

डॉ. श्रीमती तारा सिंह
है ऐ शम्मा,ज्यों एक-एक रात तुझ पर गुजारी
त्यों हमने अपनी उम्र सारी गुजारी है

बदगुमानों से कर इश्क का दावा
हमने बज्म2 में हर बार शर्त हारी है

मय और माशूक को कब, किसने नकारा है
तुन्दकृखूँ3 के मिजाज को इसी ने संवारी है

सदमें सहने की और ताकत नहीं हममें
उम्मीदकृवस्ल4 में, तबीयत फुरकत5 से हारी है

अब किसी सूरत से हमको करार नहीं मिलता
हमारे तपिशे6 दिल की यही लाचारी है

बहार गुलिस्तां7 से विदा लेने लगा, लगता
नजदीक आ रही पतझड़ की सवारी है


1.हल्की सुगंध 2.महफिल 3.कड़वा स्वभाव वाला
4. मिलन की आस 5.जुदाई 6. व्याकुल 7.बाग
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply