देखते आ रहे दृश्य ये सर्वदा---डा प्रवीण कुमार श्रीवास्तव

Post Reply
User avatar
admin
Site Admin
Posts: 21569
Joined: Wed Nov 16, 2011 9:23 am
Contact:

देखते आ रहे दृश्य ये सर्वदा---डा प्रवीण कुमार श्रीवास्तव

Post by admin » Wed Dec 12, 2018 4:26 pm

मुक्तक द्वयी (गीतिका )
देखते आ रहे दृश्य ये सर्वदा ,
अश्रु आँखों में छलके सदा सर्वदा ।
बाढ़ लीला मचाये भयंकर प्रलय ,
स्वप्न हैं टूटते झेलकर आपदा ।

रेवड़ी बाटते हो हमें नोच कर ।
राज पर राज हो फ़ेस ये चेंज कर ।
गरजते बरसते बादलों की तरह ,
चेतना जागती क्रोध ये देख कर ।
“डा प्रवीण कुमार श्रीवास्तव”
सीतापुर
Image
Mail your articles to swargvibha@gmail.com or swargvibha@ymail.com

Post Reply