tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









भगवान का दिया कम नहीं है

 

 

भगवान का दिया कम नहीं है
जो नहीं है उसका ग़म नहीं है

 

कुछ लोग समझते हैं दिलजला
दर्द है ज़ुरूर पर हरदम नहीं है

 

आँसू भी निकल जाते हैं कभी
खारे बूँद हैं कोई शबनम नहीं है

 

कितने शायर हैं मेरे हर तरफ
ढूढता हूँ एक 'अदम' नहीं है

 

मिलके जाना 'साँझ' जब कभी
इसके आगे दूसरा जनम नहीं है

 

 

*** अदम - अदम गोंडवी साहब का नाम है ***

 

 

सुनील मिश्रा "साँझ"

 

 

HTML Comment Box is loading comments...