tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









ईद मुबारक़

 

 

दर्द-ओ-गम के सिमटते बाज़ार में है,
वो आँख का आँसू मेरा इंतज़ार में है ।

 

ढ़ह न सकेगी बुनियाद खुशियों की,
वो आँख का आँसू मेरा ख़ुमार में है ।

 

उस के दम से रौनक है मेरी दुनिया,
वो आँख का आँसू मेरा दीदार में है ।

 

निकलेगा खा कर वजह है देरी की,
वो आँख का आँसू मेरा इफ़्तार में है ।

 

लो हो गयी मुबारक़, ईद ज़माने को,
वो आँख का आँसू मेरा रफ़्तार में है ।

 

 

 

' रवीन्द्र '

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...