एक आस 


कृति - मोहित पाण्डेय "ओम" 

आज भी दिल के मंदिर में ,
                   एक छवि संजों कर रखी है |
वो आएंगे जरूर ,
                   ये आस बना कर रखी है |
वो न भी आयें ,
                   तो दर्द न होगा |
अपनों से दर्द पाने की,
                   आदत सी बना रखी है |
उन्हें कभी भी भूल पाना तो ,
                   मेरे लिए मुमकिन न होगा |
इसीलिए तो खुद की खातिर ,
                   हमने अपनी कब्र सजा रखी है |

HTML Comment Box is loading comments...