tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









हवा दे दिया

 

 

बुझती चिंगारी को हवा दे दिया
हाभती जिंदगी को दवा दे दिया।

 

उसकी खुशी छोड़ कुछ न चाहा था
फिरभी उसने हमें दगा दे दिया।

 

हरबार उसने खून के आंसू दिए
और नाम मुझे ही बेबफा दे दिया ।

 

वो तसल्ली को, कसमें चाहती है
हमने तो उन्हें उम्र जवां दे दिया।

 

मेरे हबीब को मौत ढूढ रही थी
मैंने उसे अपना पता दे दिया।

 

वक्त फिरभी सितम करता है हमपर
जबकि मैने अपना हमनवां दे दिया।

 

 

 

 

Amit kumar

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...