swargvibha banner

होम रचनाकार कविता गज़ल गीत पुस्तक-समीक्षा कहानी आलेख E-Books

हाइकु शेर मुक्तक व्यंग्य क्षणिकाएं लघु-कथा विविध रचानाएँ आमंत्रित

press news political news paintings awards special edition softwares

 

 

हों न हालात मिलेंगे हम-तुम
बात-बेबात मिलेंगे हम-तुम.

एक सा खून रगों में अपनी
एक है जात मिलेंगे हम-तुम.

बेरुखी छोड़ चलें शहरों में
गाँव देहात मिलेंगे हम-तुम.

फिर किसी मोड़ किसी मंजिल पर
है मुलाकात मिलेंगे हम-तुम.

खो न जाना डगर अँधेरी है
चाँद की रात मिलेंगे हम-तुम.

your comments in Unicode mangal font or in english only. Pl. give your email address also.

HTML Comment Box is loading comments...