tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









मुझको बस इंसान चाहिए

 

 

मुझको न तो हिन्दू न मुसलमान चाहिए।
इंसान हूँ औ मुझको बस इंसान चाहिए।।

 

 

लड़ रहे हैं व्यर्थ क्यूँ मजहब के नाम पर।
ऐसा न मुझे कौम पर बलिदान चाहिए।।

 

 

जिसमें लिखा हो रक्त बहाना ही धर्म है।
मुझको न ऐसी गीता न कुरआन चाहिए।।

 

 

राह दिखाए हमें जो अमन-औ-चैन का।
मुझको ऐसे अल्लाह और भगवान् चाहिए।।

 

 

जो मिलती हो यहाँ मुझे लाशों के ढेर पर।
मुझको न ऐसी ख्याति न सम्मान चाहिए।।

 

 

जो कर सके न क्रांति के उदघोष का सृजन।
"साहिल" कलम न ऐसी बेजुबान चाहिए।।

 

 

*** © *** साहिल मिश्र ***

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...