swargvibha banner

होम रचनाकार कविता गज़ल गीत पुस्तक-समीक्षा कहानी आलेख E-Books

हाइकु शेर मुक्तक व्यंग्य क्षणिकाएं लघु-कथा विविध रचानाएँ आमंत्रित

press news political news paintings awards special edition softwares

 

 

इन्सानियत के वाकये दुशवार हो गये
ज़ज्बात ही दिल से जुदा सरकार हो गये

कब तक रखेंगें हम भला इनको सहेज कर
रिश्ते हमारे शाम का अखबार हो गये

हमने किये जो काम उन्हें फर्ज कह दिया
तुमने किये तो यार वो उपकार हो गये

कांटे मिलें या फूल क्या पता है राह में
चल साथ जब तुमने कहा तैयार हो गये

ढूंढा किये जिसको मिला हमको कहीं नहीं
आंखें करी जो बन्द तो दीदार हो गये

रौंदा जिसे भी दिल किया जब थे गुरूर में
बदला समय तो देखिये लाचार हो गये

कल तक लुटाते जान थे हम जिस उसूल पर
लगने लगा क्यूं आज वो बेकार हो गये

नीरज करी जो प्यार की बातें कभी कहीं
सोचा सभी ने हाय हम बीमार हो गये

 

HTML Comment Box is loading comments...