tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









जमीं से बेहतर तबादले का आसमां होगा
स्ुाुनहले फिक्र की महफिल का आसमां होगा

 

जिन्दगी को जिन्दगी न समझने से वेपरवाह मौसम
सफर का लक्ष्य अगणित ख्वाबों का आसमां होगा

 

जहमत ना उठा बीती वारदातों को याद कर
बची उम्र की सलामती का तकदीर आसमां होगा

 

महफूज रहे कलम की नीवें सिर्फ लिखने तक अपनी
शेष खुशियों का निगेहवां खुद आसमां होगा

 

 

अमरेन्द्र सुमन

 

 

HTML Comment Box is loading comments...