tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









जीत कडे परिश्रम का परिणाम है

 

 

जीत सदा उसको मिलती है, जिसको श्रम से प्यार है
हरेक परिश्रम करने वाले, को मिलता उपहार है


पर्वत से ढल धीरे-धीरे, बढती जाती धार जो
श्रम से आगे बढते बढते, पाती सागर पार को


व्यर्थ न जाता कभी परिश्रम, नियम यही संसार का
मिलता है परिणाम सदा शुभ, किये गये उपकार का


फल आते हरेक वृक्ष पर, मौसम आये आप ही
सहना पडते कष्ट सभी को, वर्षा सर्दी ताप भी


समय साथ आती सब ऋतुये, शरद वंसत और सावनी
वर्षा बीते ही दिवाली, आती है मन भावनी


इससे कभी न घबराये मन, सहसा पाई हार से
बढता जाये निष्चित पथ पर, बिना डरे अंधियार से


ध्यान रहे दिन होता ही है, सघन रात के बाद ही
दुख अनुभव से होती जागृत, इच्छा, सुख आल्हाद भी


बिना रूके चलते जाना ही, तो जीवन का नाम है
जीत सभी को कडे परिश्रम, का मिलता परिणाम है

 

 

प्रो सी बी श्रीवास्तव "विदग्ध"

 

HTML Comment Box is loading comments...