tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









ख़ुदा फिर कभी दिन न ऐसा दिखाये

 

 

ख़ुदा फिर कभी दिन न ऐसा दिखाये ।
तिरी आँख में अश्क़ जो झिलमिलाये ।। 1

 

जमाने की बातों की परवाह क्यों हो
मगर कोई अपना न दिल को दुखाये ।। 2

 

बहुत दिन गुजारे हैं गुरबत में हमने
है जाना तभी कौन अपने पराये ।। 3

 

ख़ुशी अब नहीं होती मेहमान दिल की
लबों को बहुत दिन हुए मुस्कराये ।। 4

 

अंधेरी पड़ी ज़िन्दगी की इमारत
बुझी है शमा कोई आकर जलाये ।। 5

 

दिया डाल डेरा है तनहाइयों ने
अकेले में क्या अब कोई गुनगुनाये ।। 6

 

चलो वक्त कुछ साथ अपने गुज़ारें
ज़माना हुआ खुद से नज़रें मिलाये ।। 7

 


------------------------- डॉ. रंजना वर्मा

 

 

HTML Comment Box is loading comments...