tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









ख्वाब में उनको बुलाना आ गया

 

 

मापनी - 2122 2122 212
काफ़िया - आ रदीफ़ - गया

 

 

ख्वाब में उनको बुलाना आ गया ।
रौशनी में ज्यों नहाना आ गया ।। 1

 

घर जो' अपना हैं बना सकते नहीं
पर जलाना आशियाना आ गया ।। 2

 

थे हमेशा गीत गाते प्यार के
अब उन्हें हमको सताना आ गया ।। 3

 

जब जरा सी रंग की बौछार की
लो उन्हें नज़रें मिलाना आ गया ।। 4

 

हर तरफ़ यूँ छा गयीं खामोशियाँ
कौन ग़म का ले तराना आ गया ।। 5

 

थी बड़ी उनमे भरी शाइस्तगी
आज क्यूँ नजरें चुराना आ गया ।। 6

 

जन हितों से है सियासत खेलती
मतलबी कैसा जमाना आ गया ।। 7

 

निगलतीं सच को समय की गर्दिशें
झूठ का देखो जमाना आ गया ।। 8

 

कब तलक सोयेंगे आँखें मूँद कर
अब हमे भी आजमाना आ गया ।। 9

 


___________ - डॉ. रंजना वर्मा

 

 

HTML Comment Box is loading comments...