tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









....Kiss Of Love......

 

 

 

पश्चिमी कायदों को इख्तियार करतें हो|
नासमझ हो अरे ! सड़कों पे प्यार करते हो||

सभ्यता,संस्कृति और पहचान को मिटाकर,
किस इल्म पे कहोगे कल तुम नाज़ करते हो|

लैला-मज़नू सोचकर सर्मा गये होते यहाँ,
नादानीयाँ आजकल जो बार-बार करते हो||

गैर-वाजिब जल्वों की इक्तिजा की खातिर,
ऐहतमाम की अहमियत को दरकिनार करते हो|

'विनोद' बुजुर्गों की अहमियत को भूलकर तुम,
खुदगर्ज हो,रिश्तों को तार-तार करते हो||

--------------------
*इल्म-ग्यान / जल्वा-प्रदर्शन / इक़तिजा-माँग / ऐहतमाम-व्यवस्था या संस्कृति
-----------------

~ विनोद यादव निर्भय

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...