tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









यूँ तो दिखाई' देता मौसम बड़ा सुहाना

 

 

यूँ तो दिखाई' देता मौसम बड़ा सुहाना
जब चाहे' राह बदले मौसम का क्या ठिकाना ।। 1

 

हाँ आज तो सभी की फ़ितरत है मौसमों सी
पल भर में' भोर होती पल रात का बहाना ।। 2

 

ये रात के अँधेरे सब को डरा रहे हैं
उम्मीद की किरण ले दीपक जरा जलाना ।। 3

 

ठोकर है हर कदम पर थक जाये' जिन्दगानी
है राह मुश्किलों की बच कर कदम बढ़ाना ।। 4

 

वो ग़ैर की हमेशा तकदीर रहते' लिखते
पड़ जाये' आज शायद खुद को ही' आजमाना ।। 5

 

मझधार है भँवर है नइया भी' है पुरानी
है छिद्र भी तले में हिम्मत न हार जाना ।। 6

 

तुम को न रोक पाये तूफान आँधियाँ भी
ये पांव रुक न पायें मंजिल है' तुम्हे पाना ।। 7

 


-------------------------------- डॉ. रंजना वर्मा

 

 

HTML Comment Box is loading comments...