tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









बिना समझे मुहब्बत की बड़ाई हो तो कैसे हो

 

 

बिना समझे मुहब्बत की बड़ाई हो तो कैसे हो
गले जो मिल नहीं सकते वो भाई हो तो कैसे हो।

 

अमीरौं ने बनाई तीन के तेरह सुना हमने
पसीने की कमाई से दहाई हो तो कैसे हो।

 

उधर लाखों करोड़ों की सगाई में सजी दुल्हन
इधर लाचार बेटी की बिदाई हो तो कैसे हो।

 

लजा जाए जहाँ फानूस भी, फूहड़ तरानों से
भला उस घर की छाया में, पढ़ाई हो तो कैसे हो।

 

विवादित हो जहाँ कुरआन, गीता और रामायाण
विवादों की ये खाई की, भराई हो तो कैसे हो।

 

सियासत ने तो गंगा बाँट दी है और शतलज को
किसानो की फसल सूखे, तराई हो तो कैसे हो।

 

गरीबों के घरों को सिर्फ वादे ही मयस्सर हैं
गरीबी को मिटाने की लड़ाई हो तो कैसे हो।

 

सुधीर कुमार ‘प्रोग्रामर’

 

HTML Comment Box is loading comments...