tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









परदे में होता है सभी कुछ ,प्यार भी इक़रार भी

 

 

परदे में होता है सभी कुछ ,प्यार भी इक़रार भी
बाजार में इसको दिखाना ,अच्छा नहीं लगता
.........................................................

जिस्म को ढकने की खातिर ,पहरावों को किया था इज़ाद
झाँकने लगे जिस्म वो वस्त्र पहनाना, अच्छा नहीं लगता
.........................................................................

मंदिरों के द्वार पर, देख भूखों के कतार
करोड़ों का वो भोग लगाना ,अच्छा नहीं लगता
.............................................................

क्या विज्ञापन, क्या गाने, फिल्मे, परोसते अश्लीलता
साथ बच्चों को टी वी दिखाना, अच्छा नहीं लगता
.......................................................

शहीद होते हैं जंग में तो, कटते भी हैं सर वहाँ
कटे सिरों को हाथों में नचाना, अच्छा नहीं लगता
...............................................................

मान दिया ओहदा दिया, इस मुल्क ने तुमको मगर
दुश्मन को घर में यूं बुलाना, अच्छा नहीं लगता
...............................................................

चौखट पे जिसके सर्द से, मर गया वो रात में
उस दर पे चादर का चढ़ाना, अच्छा नहीं लगता
........................................................

दीपक पाण्डेय

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...