tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









पयाम

 

वो यक़ीनन हमें कमतर समझते हैं,
जिनको अमूमन हम सलाम करते हैं ।

 

तारीफ़ उस नर्गिसे-चश्म गहराई की,
जिसका अक्सर हम कलाम करते हैं ।

 

बुलाए से महफ़िल में हरगिज़ नहीं आते,
तन्हाई में जिनका जलवा बयान करते है।

 

रुसवाई मिलती है , अक्सर ज़माने में,
मुहब्बत का अपनी जो गुमान करते है।

 

ठुकरा दिया एक बार तो खुदा - हाफिज ,
मुहब्बत का अपनी भी कुछ मान करते हैं ।

 

गैर नहीं कोई भी , सब तो हैं यहाँ अपने,
ईमान और मुहब्बत का ये पयाम करते हैं ।

 

 

' रवीन्द्र '

 

 

HTML Comment Box is loading comments...