tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh









उल्लू है हर इक शाख पे

 

 

उल्लू है हर इक शाख पे, गुलशन बचाये कौन?
है हर कुएँ मे भाँग ,शुद्ध जल पिलाये कौन?

 

जिसकी उठाओ पूँछ वो मादा है निकलता,
ये इत्तेफाक है या हकीकत, बताये कौन?

 

गिद्धों की नजर लग गई है मेरे देश को,
आकर नजर उतारे वो तांत्रिक बुलाये कौन?

 

चीलों के घर में मांस धरोहर है रख दिया,
पंजों से उनके मांस की गिरवी छुड़ाये कौन?

 

बिल्ली के भाग्य से सदा छींका न टूटता,
यह सीख बिल्लियों को कैसे और सिखाये कौन?

 

खुश मजहबों के झुंड हैं भगवान बाँटकर,
मालिक सभी का एक है इनको पढ़ाये कौन?

 

पत्थर पड़े हैं अक्ल पे, अहसास मर गये,
इंसानियत का आइना जग को दिखाये कौन?

 

सब जानवर हैं नाच रहे सुन गधों का राग,
जंगल में लगी आग है आकर बुझाये कौन?

 


----
- गौरव शुक्ल
मन्योरा

 

 

HTML Comment Box is loading comments...