tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






 

 

काश तुम मेरे होते

 

 

 

🌺🌺सुशील शर्मा🌸🌸

🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿
काश तुम मेरे होते।
पास न अंधेरे होते।
🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿
जीवन बदल जाता।
सपने सुनहरे होते।
🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿
मिल जाते हमें गर तुम।
खुशियों के बसेरे होते।
🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿
यादों की रात होती।
मिलन के सबेरे होते।
🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿
जब्त हैं मेरे सीने में
दर्द ये गहरे होते।
🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿
ता उम्र मुस्कुराते रहते।
गर सामने ये चेहरे होते।
🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿
ख्वाब बस आंखों में है।
संग तेरे फेरे होते।
🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...