tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






 

 

मेरे वतन के लोगों

 

merewatan

 

वतन के लोगों वतन को ,आतंक बचालो
आतंक के कहर को मिलकर वतन से निकालो
सोने की चिड़िया के वतन को फिर से सजा लो
संबंधो के बंधन कभी न टूटे ,इन्हे मजबूत बना लो
वतन के लोगो .............

 


आतंक का जहर कही फैल ना जाये वतन मे
बंध न जाए कही वतन गुलामी जंजीरों में
रोको इसे आतंक से बचालो, ओ मेरे देश के रखवालो
मेरे वतन के लोगो जरा जागो देश संभालो
वतन के लोगो ..........

 


हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई मिलकर रहे वतन में
भाई चारे को तोड़ने आए बहुत ,बने रहे एक चमन में
मनोबलों को टूटने से बचालो ,ओ मेरे देेश के रखवालों
मेरे वतन की लोगों जरा जागों देश संभालों
वतन के लोगों ……………

 


दिया तिरंगे को रंग शहीदों की क़ुरबानी से वतन में
नाज है हमें चुमते जमी को सब लोग वतन में
बन प्रहरी आतंक से बचालो ओ मेरे देश के रखवालों
मेरे वतन के लोगों जरा जागो देश संभालो
वतन के लोगों ……………

 

 

संजय वर्मा 'दृष्टि "

 

HTML Comment Box is loading comments...