tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






आदमी की कोई हद न रही

 

 

आदमी की कोई हद न रही
जाने ये क्या हद हो गयी ?
कि आदमी की हद सरहदों में खो गयी
सरहद बना ये आदमी,आदमी है कहाॅ
खोखला उसका वजूद और झूठा उसका जहाॅॅ,
सगे भाईयों के बीच,आपस में ठनी हो गयी,
आॅगन में लगी बाॅगड़, और घनी हो गयी ?
जाने ये क्या हद हो गयी
कि आदमी मुस्कान गमों में खो गयी
चेहरे पर खिलती थी कभी उसके मुस्कान
गिरगिट सी रंग बदलती है अब उनके मुस्कान
स्वार्थ में हाय ये मुस्कान बिखर गयी
आदमी की मुस्कुराहट, अब आदमी की नहीं रही?
जाने ये क्या हद हो गयी ?
कि आदमी की आॅखों की चमक अंधेरे में खो गयी
आॅखों में उसकी कभी रहती थी जो मासूमियत
लरजते थे आॅसू,प्यार की देने को शहादत
जुल्म ढ़ाती अब उसकी आॅखें,अब शैतान हो गयी
हाय आदमी की आखें, निर्दोषों के खून की प्यासी हो गयी।
जाने ये क्या हद हो गयी ?
कि आदमी की जिंदगी, हादसों में खो गयी
कभी फूलों की तरह महका करती थी जिंदगी
श्रद्धा से नतमस्तक करती थी वन्दगी
आदमी की जिन्दगी एक हादसाॅ हो गयी, गर्दिशों की मानो वह बादशाॅ हो गयी।
जाने क्या हद हो गयी ?
कि आदमी की जिंदगी समयचक्र में खो गयी
कभी समय के साथ, जो चला करता था आदमी
आज टूटती बिखरती वो जिन्दगी की माला है आदमी
समय के हाथों दो कोड़ी का खिलौना है आदमी
निगल रहा है कालचक्र,हाॅय चुन चुन कर आदमी।
आज के आदमी के आगे,मजहब की कोई शान न रही
शानो-शौकत से जी रहा है,वह मजहब को राजीखुशी
मजहब के नाम पर, वह फसाद करा रहा है
सच्चे मजहब का मतलब वह कुछ और बता रहा है।
आदमी, आदमी की आन को मिटा रहा है आदमी
आदमी, आदमी में छिपे भगवान को मिटा रहा है आदमी ।
जाने क्या हद हो गयी ?
कि आदमी की आन,अब मजहबों में खो गयी
कभी मजहब का होकर, जो गया था आदमी
आज तक लौटा नहीं, वह मजहब का आदमी
पीव पहचान उसकी, खुदा से जो हो गयी।
खुद खुदा हो गया, वह मजहब का आदमी।

 

 

 

आत्माराम यादव

 

 

HTML Comment Box is loading comments...