tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






आप भी

 

 

कल था, उजास से भरा,
आज उदासियों से घिरा,
राजनीति है विचित्र रण,
कवच स्वच्छता है छिना ।

 

एक मी लार्ड थे,
एक थे माई गॉड,
पहला झेले कमैटी,
दूसरा पुलिस खौफ़ ।

 

कभी जो तेज था,
आज वही रुग्ण है,
तहलका शहर में,
हुआ वो तरुण है ।

 

पहेली की शकल में,
छुपा ये यक्ष प्रश्न है,
किस पर हो भरोसा,
क्या यही गण तंत्र है ?

 

 

' रवीन्द्र '

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...