tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






आत्मा की सर्विसिंग

 

 

 

ए.टी.ज़ाकिर

 

 

 

रिश्वत लेने का हमने मन बनाया ही था
और नोट थामने को हाथ आगे बढ़ाया ही था,
कि दिल काँपने लगा
डर हमारी आँखों में झाँकने लगा |
हम समझ गये –
करप्ट हो गई है हमारी आत्मा के कम्प्यूटर की फायल,
जिसने कर दिया है हमारे आत्मविश्वास को घायल |
आत्मा की सर्विसिंग कराने,
अब हमे फिर से सर्विस सेन्टर जाना होगा,
वहाँ अपनी पुराने मॉडल की आत्मा को
फिर सर्विस कराना होगा |
सर्विस सेन्टर में हमने अपना हाल बताया,
जिसे सुनकर मैनेजर ने
हमारी आत्मा का एक्सरे कराया |
हमारी आत्मा के एक्सरे को देख कर
मैनेजर घबराया,
उसने एक लम्बा-चौड़ा रिपेयर एस्टीमेट हमे पकड़ाया |
फिर उसने अपना लैपटॉप खोला
और गंभीर स्वर में बोला –
आपकी आत्मा का कम्प्यूटर हो गया है फेल,
सारे पुरजों का निकल चुका है तेल |
ये तो हमारा ही दम है कि,
आपकी आउट-ऑफ-डेट आत्मा को,
हर बार चला देतें हैं,
और दूसरों की आत्मा के पार्ट्स निकालकर
आपकी आत्मा में लगा देतें हैं |
अब अपनी इस आत्मा को बदलवा दीजिये,
और उसकी जगह नये मॉडल की
इलेक्ट्रॉनिक आत्मा लगवा लीजिये |
हमने कहा –
कौन सी लगवायें ?
आप ही कोई सस्ती, अच्छी
टिकाऊ आत्मा बतायें |
चाईनीज़ आइटम लगवाइये,
उसने कहा
चारों ओर वही दिख रहा है,
सस्ता भी है,
इसलिये खूब बिक रहा है |
इसके कम्प्यूटर में एंटी-वायरस भी पड़ा है
जो आपकी आत्मा की रक्षा करने खड़ा है |
बहुत पावरफुल है –
दया, सहानुभूति, प्रेम, मानवता जैसे
सारे वायरसों को धो देगा |
और उनकी जगह –
झूठ, कमीनापन, मक्कारी और ऐहसान फ़रामोशी
आपकी आत्मा में बो देगा |
पछतावा ख़ुद आपसे पछतायेगा,
और आपकी आत्मा में बेशर्मी का
वृक्ष लहरायगा |
इतना ही नहीं –
आपकी इस कबाड़ आत्मा को,
हम एक्सचेंज में ले लेंगे,
और बदले में आपकी आत्मा में
कुछ चोरी, धोखेबाज़ी और ख़ुशामद भर देंगे |
आप ‘हाँ’ तो कहिये,
फिर मैं अपना कमाल दिखाता हूँ,
और आपमें
मॉडर्न आत्मा लगा के
आपको आजका सफलतम
इंसान बनाता हूँ |

 

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...