tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






आजादी

 

काश आजादी ऐसी होती कि,
मैं मंदिर में नमाज़ पढ़के,
गिरजाघर में शबद गाके,
गुरुद्वारे में मोमबत्ती जलाके,
मस्जिद में घंटा बजा आता,
जात, लिंग, धर्म से मेरी पहचान न होती,
इन लबादो को छोडकर,
मैं बस एक इंसान कहला पाता,
काश आज़ादी ऐसी होती कि,
आसमान में देशो की सीमाएं न होती,
और दुनियाँ की उड़ान मैं खुद के पंखो र्तक पहुँचा आता,
काश आजादी ऐसी होती कि,
सपनों पे भूख और गरीबी के सच की जंजीरे न होती,
इनसे ऊपर उठकर, मैं इस ब्रह्मांड को ही
अपना घर बना आता,
काश आजादी ऐसी होती।

 

 

 

Neha Atri

 

 

HTML Comment Box is loading comments...