tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






अनाचारी जायेंगे कन्दरा ?

 

 

वह आक्रमणकारियों का दौर था
आक्रमण का लोगों में तब खौफ था|
उस वक्त भी दौलत लूटते रहे लोग
आज भी लुट रहे कैसा बना संयोग ?
दौलत वे ले जाने के लिए आने लगे थे
निज हित में सभी राजा घबराने लगे थे|
और खिलजी दिल्ली में बैठ सिंहासन से
षड्यंत्र रचकर मन से मुस्कराने लगा था |
राजाओं में एकता की कमी से हुए गुलाम
आज अपनों से हो रहे है कितना बदनाम |
वीरांगनाएं जब उठ खड़ी होंगी अन्दरर्न से
व्यभिचारी -दुराचारी -भ्रष्टाचारी कन्दरा में ||

--
Sukhmangal Singh

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...