tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






रिमझिम रिमझिम बरसता पानी

 

 

 

रिमझिम रिमझिम बरसता पानी
आओ दादी आओ नानी
जब पानी में बहती नाव
उसमें देखो बच्चों के भाव
ठुमुक ठुमुक बहती नाव
राग एक नया सुनाती नाव
बरखा ने अपना स्वभाव बदला
उसके विकराल रूप से दिल दहला
बहे खेत और खलियान
नहीं बक्शे पहाड़ और मकान
ताली बजाकर बच्चे चिल्लाते
मेरी नाव सबसे आगे
कितने ये नादान
ये समझते मातम को भी अपनी शान
सोने जैसा है साफ दिल इनका
इनके दिल में कोई दाग़ न दिखता
इनके लिए बरसता पानी केवल है रिमझिम पानी
चाहे वो लिखे उनके जीवन में मातम की एक कहानी
'विषधर' कहता अब पछताने से होता क्या
तब कहते थे पेड कटाने से होता क्या
और अब कहते हो वृक्षारोपण से होता क्या
अरे अब तो होश में आ ऐ निर्बुधि इन्सान
अगर चाहत है बनाना महान
जीवन में एक वृक्ष कर दान

 

 

 

त्रिलोक चन्द्र जोशी 'विषधर'

 

 

 

 

HTML Comment Box is loading comments...