tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






चलो उठो बढ़ते चलो

 

 

चलो उठो बढ़ते चलो ,हौसले बुलंद करते चलो .
हर हो या जीत हो ,अपनी राह चलते चलो .
चलो उठो लहू में उबाल भरो, वक़्त जाया न करो.
ये जीवन अनमोल है,वक़्त रहते ही काम पूरा करो .
वक़्त का नमाजी बन सेहेर की पहली किरण संग आगे बढ़ते चलो.
राह की हर मुश्किलों को तुम अपने हौसले से पस्त करते चलो .
तिमिर के अंधकार को अपने अंदर की आग से रौशन करते चलो .
हौसले को पंख मिले न सही,गिरते -पड़ते ही सही आगे बढ़ते चलो .

 

 

 

Dharmendra Mishra

 

 

HTML Comment Box is loading comments...