tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






दास न जाने पीड़ा शेष

 

dasnajane

 

 

दास न जाने पीड़ा शेष,
गृह स्वामिनी का क्लेष,
छण -छण की अंतरवानी,
धरता वृहद विक्रांत वेश |
तरुणी पद पाया गृहशोभा,
निज मन रहे निसेद्ध प्रवेश |
हाय ! रे जीवन महान ।
बस अवशेष ही अवशेष |

 

 

 

रवि कुमार चमन

 

 

HTML Comment Box is loading comments...