tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






फर्क सिर्फ इतना था -

 

 

उसने बन्दूक उठाई , मैंने कलम
उसने गोली चुनी , मैंने शब्द
उसने खून बहाया , मैंने आंसूं
उसने घर जलाये , मैंने दिल
उसने दीपक बुझाया , मैंने उसे जलाया
उसने लोगों को सुलाया , मैंने लोगों को जगाया
वो बदनाम हुआ , मेरा नाम हुआ
वो कैद हुआ , मैं आज़ाद हुआ
उसे फांसी मिली , मुझे फांस
हम दोनों एक ही तो थे
बस उसने बन्दूक उठाई मैंने कलम। ...........

 

 

 

Anurag Kumar Swami

 

 

HTML Comment Box is loading comments...