swargvibha banner

होम रचनाकार कविता गज़ल गीत पुस्तक-समीक्षा कहानी आलेख E-Books

हाइकु शेर मुक्तक व्यंग्य क्षणिकाएं लघु-कथा विविध रचानाएँ आमंत्रित

press news political news paintings awards special edition softwares

 

जग में आते हम एकाकी
पल दो पल का संग यहाँ
जग से जाते हम एकाकी
कौन चला है संग वहाँ I

स्वयं का जब तक साथ न पाले
हर कोई एकाकी जग में
स्वयं की भीतर थाह न पाले
हर कोई प्यासा मग में I

प्रेम यदि पाया भीतर तो
सारी सृष्टि प्रेम लुटाती
स्वयं से जो न जुड़ पाया
पीड़ा मन की रहे लुटाती I

भीतर जाकर झोली भर ली
वही लुटा सकता आनंद
जिसके साथ सदा रब रहता
वही बहा सकता मकरंद I

स्वयं के साथ रहे जो अविरत
स्वयं से नाता जोड़ा जिसने
वही दूसरों से जुड़ सकता
स्वयं को मीत बनाया जिसने I

 

your comments in Unicode mangal font or in english only. Pl. give your email address also.

HTML Comment Box is loading comments...