tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






जल उठी हृदय में विदग्ध ज्वाला

 

 

जल उठी हृदय में विदग्ध ज्वाला,
मिली तुझसे नयन अश्रुधार जो।
पंक में कमल मुरझाया - जला,
भँवरे बिन था वो , उदास जो।

 

प्रेम विरह वो मनुज क्या जाने?
संग कि था जिनके परिवार जो।
राम से पूंछो कैसे थे दिन,
थी न जब संग जगतजननी जो।

 

प्रणव मिश्र'तेजस'

 

 

HTML Comment Box is loading comments...