tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






जीवन अनुभव

 

 

मैंने अक्सर ही महसूस किया
दुःख का इलाज नही होता
दुःख बताने पर कम होता है
ऐसा भी रिवाज नही होता

 

 

जो ज्यादा सुनकर कम बोले
उनसे तुम मत डरना यारो
जो बिना सुने ही बेसुध बोले
उनसे बचकर रहना यारो

 

 

संवेदना दिखाते अक्सर वो
जिनका मन मैला होगा
सूरमा कहते डटकर बढ़ना
देखो सवेरा फैला होगा

 

 

पैसे का मोल यहाँ है 'तेजस'
जग ही पैसे पर खड़ा हुआ
भाई भाई क्या बेटा बाप भी
मुर्दे सा पैसे पर पड़ा हुआ

 

 

भैया जीवन में प्रेम नही होता
हाँ सब स्वार्थ के रिश्ते है
अब बहस मुझसे मत करना
पगले अनुभव की बाते है

 

 

रे कवि तो फक्कड़ है उसको
देखो अपना मान कहाँ होता
जो सम्मान को रोता है भैया
अपमान उसी का होता रहता

 

 

 

©प्रणव मिश्र'तेजस'

 

 

HTML Comment Box is loading comments...