tarasingh
Administrator Dr. Srimati Tara Singh


www.swargvibha.in






खून बहाती नदियां

 

यह कविता प्रकृति के शोक को व्यक्त करती है जो उत्त्पन हुआ है , मनुष्य के द्वारा उसे प्रदूषित किये जाने पर -

 

खून बहाती नदियां
अश्रु बहाते पेड़
मर गए वो मनुष्य
जो अभी थे अधेड़ !

 

ईश्वर ने तो तुम्हे किया था भूषित
पर तुमने की पृथ्वी प्रदूषित !
इतनी सारी , बनके बेचारी किधर जा रही
इंसानो की भेड़

 

जो था उन्माद गगन
तुम्हे देख लगता भगन
कायदित जो थी पवन
किया तुमहीने उस नग्न !

 

कहाँ गयी वो बड़ी कुल्हाड़ी
जिससे तुमने धरती फाड़ी
जैसे किसी सुहागन को
पहना दी सफ़ेद साडी !

 

समय था जो बीत गया
अब तू निश्चित पछतायेगा
चल अगर तूने जीत लिया संभा
पर वक्त कहाँ से लाएगा ?

 

 

Anurag Kumar Swami

 

 

HTML Comment Box is loading comments...